इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

गुरुवार, 24 दिसंबर 2009

डाक्टर भगवान है कुछ भी कर सकता है

एक तीमारदार की कथित बदसलूकी से भन्नाए मेरठ के जूनियर डाक्टरों ने पहले तो उसेपरिवार सहित पीटा और जब इतने से मन नहीं भरा तो उन्होंने अन्य मरीजों का लात-घूंसों से इलाज किया। यहां तक कि उनके ड्रिप तक निकालकर फेंक दिए। इस घटना से सन्न सरदार वल्लभ भाई पटेल मेडिकल कालेज प्रशासनडाक्टर भगवान है कुछ भी कर सकता है  ने जब 24 घंटे बाद दो छात्रों को निलंबित कर मरीजों के आंसू पोंछने चाहे तो जूनियर डाक्टर सीनाजोरी पर उतर आए। बुधवार को मरीजों को पीटने के बाद ही हड़ताल पर चले गए जूनियर डाक्टरों का कहना है कि यदि निलंबन वापस नहीं हुआ तो वे एक साथ इस्तीफा दे देंगे। मरीजों-तीमारदारों के पिटाई प्रकरण की जांच कमेटी की प्राथमिक रिपोर्ट में दो जूनियर डाक्टर दोषी पाए गए। कालेज प्रशासन ने डॉ. गौरव तथा डॉ. लीप को निलंबित कर दिया। इसकी जानकारी जैसे ही जूनियर डाक्टरों को मिली वे आक्रोशित हो गए। प्राचार्य से मिले जूनियर डाक्टरों ने बिना गलती कार्रवाई होने की बात कहते हुए रोष जताया और साथ ही धमकी दी कि यदि शुक्रवार शाम छह बजे तक दोनों छात्रों का निलंबन वापस नहीं होता तो सभी जूनियर डाक्टर इस्तीफा दे देंगे। वे बुधवार से ही इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर कोई काम नहीं कर रहे हैं।

       डोक्टर साहिब हैं और साहिब कुछ भी कर सकता है

कोई टिप्पणी नहीं:

यह ब्लॉग खोजें

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

jrurt

jrurt
jrurt
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

मेरी ब्लॉग सूची

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

समर्थक